बॉलीवुड के इस खूंखार विलेन को अंतिम दिनों में पहचानना हो गया था मुश्किल, देखे फोटो

हिंदी सिनेमा में दर्शक हीरो के साथ ही विलेन को भी खूब याद रखते हैं। हम आज आपको फिल्मों के मशहूर विलेन रामी रेड्डी के बारे में बताएंगे, जिनके पर्दे पर आते ही लोग दहशत में आ जाया करते थे।

ज्यादातर बॉलीवुड फ़िल्में हीरो या हीरोइन के नामों से याद रखी जाती है लेकिन कई बार ऐसा होता है कि हीरो-हीरोइन से ज्यादा लोग विलेन को लोगों ने याद रखते हैं और फिल्म को विलेन के नाम से याद रखते हैं। हिंदी सिनेमा जगत में गब्बर, मोगेंबो, शाकाल और बिल्ला जैसे कई विलेन रहे हैं, जो आज भी मशहूर हैं लेकिन इनके अलावा एक और ऐसा एक्टर था, जो पर्दे पर आते ही लोगों के अंदर डर पैदा कर देता था। इस विलेन को दहशत का दूसरा नाम कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा। हम बात कर रहे हैं मशहूर एक्टर रामी रेड्डी की। रामी ने कभी कर्नल चिकारा बनकर लोगों को डराया तो कभी अन्ना बनकर हीरो की धुनाई की। आज हम आपको बताएंगे 90 के दशक की फिल्मों में निगेटिव रोल्स प्ले करने वाले विलेन रामी रेड्डी की.

आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले में स्थित गांव वाल्मीकिपुरम में जन्मे रामी रेड्डी का पूरा नाम गंगासानी रामी रेड्डी था। रामी रेड्डी ने हैदराबाद में अपनी पढ़ाई की और वहीं से पत्रकारिता की डिग्री ली। फिल्मों में आने से पहले रामी एक पत्रकार थे और उन्हें एक्टिंग करना पसंद था। एक बार उन्होंने अपनी किस्मत तेलुगू फिल्म में आजमाई और वो फिल्म हिट हो गयी। इसके बाद रामी ने हिंदी फिल्मों में भी काम करना शुरू कर दिया।

रामी बने खलनायकरामी रेड्डी पहले फिल्मों में साधारण आदमी की भूमिका निभाते थे लेकिन तब लोगों उन्हें इतना नोटिस नहीं किया। फिर उन्हें एक हिंदी फिल्म में विलेन का रोल करने का मौका मिला। विलेन बनकर तो जैसे रामी रेड्डी हिंदी फिल्मों में छा गए। उन्होंने निगेटिव किरदार को बखूबी निभाया। बस फिर क्या था रामी को विलेन के रोल्स मिलने लगे और दर्शक भी उन्हें खूब पसंद करने लगे।

कहा जाता है कि रामी रेड्डी फिल्मों में भले ही विलेन कि भूमिका निभाते हों लेकिन असल जिंदगी में वे काफी नर्म दिल और सुलझे हुए इंसान थे। इसके बावजूद भी उनके खूंखार विलेन के किरदारों कि वजह से असल ज़िन्दगी में भी लोग उनसे डरते थे। एक्टर ने अपने फिल्मी करियर में करीब 250 फिल्मों में काम किया। फिल्म ‘प्रतिबंध’ में उन्होंने अन्ना नाम के विलेन का किरदार निभाया था, जिसे लोगों ने जहन में बसा लिया था। इसके बाद से उन्हें इसी नाम से पुकारा जाता था।

रामी रेड्डी का फिल्मी करियर बेहतरीन चल रहा था और उन्हें काम की कोई कमी नहीं थी लेकिन उनकी जिंदगी में दुखों का पहाड़ तब टूटा जब उन्हें एक गंभीर बीमारी ने घेर लिया था। रामी को लीवर से जुड़ी बीमारी हो गई थी, जिसके कारण वह अक्सर ही बीमार रहते थे। सालों बाद रामी जब एक इवेंट में पहुंचे तो लोग उन्हें पहचान ही नहीं पाए थे। बीमारी की वजह से उनका वजन बिल्कुल कम हो गया था जिस वजह से उनका शरीर हड्डियों का ढांचा बनकर रह गया था। बीमारी से जूझते हुए साल 2011 में रामी रेड्डी ने दुनिया को अलविदा कह दिया था। दुख की बात ये है कि रामी के आखिरी समय में उनसे मिलने के लिए फिल्म इंडस्ट्री से कोई भी नहीं पहुंचा था। जब उनके निधन की खबर बाहर आई तो लोगों ने काफी दुख जताया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *