19 महीने के बच्चे की मदद के लिए आगे आए Sonu Sood, बोले- थोड़ी-थोड़ी सब मदद करेंगे तो मिल जायेगा जीवनदान…

सोनू सूद बॉलीवुड इंडस्ट्री के सुपर स्टार है , जो की ज्यादातर विलेन का रोल प्ले करते है। सोनू सूद बॉलीवुड इंडस्ट्री के साथ साथ टॉलीवूड इंडस्ट्री में भी अपना नाम कमा चुके है। सोनू सूद फिलम इंडस्ट्री के विलेन है , जिसका मतलब ये नहीं की वह असल जिंदगी में भी एक विलेन है। परन्तु इसके विपरीत सोनू सूद रियल लाइफ के सुपर स्टार अथार्थ रियल लाइफ हीरो है। सोनू सूद ने बिना किसी का सहारा लिए बहुत से लोगो की मदद की है। सोनू सूद अभी हाल ही में अपने एक उच्च विचार और दयालु स्वभाव के कारण सम्पूर्ण भारतवर्ष में फेमस होगये थे।

हर माता-पिता का एक सपना होता है कि उसके आंगन में बच्चों की किलकारियां गूंजे और वह बच्चा जब भी दुनिया में आंखे खोलें तो स्वस्थ हो और उसके हर सपने पूरे हो. लेकिन, पैदा होते ही बच्चा बीमार हो जाये तो मां बाप के सपने टूटने लगते हैं. सोचिए माता-पिता को यह पता हो कि लगभग 2 से 3 साल के अंदर इस दुनिया को अलविदा कह देगा.तो वह माँ बाप तोह वही ही टूट जायँगे , बात है उड़ीसा की जहां एक छोटी सी 19 महीने की बच्ची की तबीअत होगई खराब।

अब बच्चे को करोड़ों रुपए की लागत वाला इंजेक्शन ही उसे नया जीवन दे सकता है. इसी दर्द में माता-पिता देशभर के लोगों से मदद की गुहार लगा रहे है. ऐसा ही एक मामला उड़ीसा की रहने वाले परिवार के साथ हुआ है. उनका 19 महीने का बच्चा एसएमए 2 यानी स्पाइनल मस्क्युलर अट्रॉपी बीमारी से ग्रस्त है. इस बीमारी का भारत में कोई इलाज नहीं है.

लेकिन, बेंगलुरु के एक डॉक्टर ने उसके इलाज की जिम्मेदारी ली है और कहा है कि अगर 16 करोड़ का इंजेक्शन इस बच्चे को लग जाए तो इसे नया जीवन मिल सकता है. बच्चे के माता-पिता अब देश के हर कोने में जाकर बच्चे के लिए दान मांग रहे हैं जिसके चलते पानीपत में इस बच्चे के माता पिता पहुंचे. इससे पहले बच्चे के साथ माता-पिता सोनू सूद से मिलकर उनसे सहायता मांगने पहुंचे थे ,अमाउंट इतना बड़ा था की अकेले सोनू सूद भी मदत नहीं कर सकते थे।

सोनू सूद ने सहायता देते कहा कि हमें उम्मीद है कि पूरा देश इस बच्चे को बचाने में सहयोग करेगा. सोनू सूद ने जनता से भी अपील की है कि इस बच्चे को नई जिंदगी देने के लिए सभी आगे आये और डोनेट करे। बच्चे की मां कमालिका दास ने बताया कि राजवीर 19 महीने का है. उसे एक ऐसी बीमारी हुई है जो बहुत कम बच्चों में होती है. उन्होंने बताया कि इस बीमारी से बच्चे की 2 और 3 साल के बीच में मौत हो जाती है.

बच्चे की मदद करने वाली उड़ीसा की रहने वाली सुजाता ने बताया कि हॉस्पिटल में इस बच्ची का कोई इलाज नहीं हुआ इसे ऐसे ही रख दिया गया था जब इस बच्चे का कोई इलाज नहीं हो रहा था तब हमने पहल की और इस बच्चे को मुंबई सोनू सूद से मिलवाया. सोनू सूद ने काफी मदद की है. अब यहां पानीपत में कलाकार सोनू हुड्डा से मदद ली जा रही है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *