गोविंदा ने इस वजह से छुपाई थी सुनीता संग शादी की बात, बर्थडे पर वायरल हो रहा पुराना इंटरव्यू

गोविंदा और सुनीता की शादी उस वक्त हो गई थी, जब उन्हें फिल्मों में आए हुए महज एक साल का वक्त हुआ था। लेकिन इसके बारे में लोगों को उनके बच्चों टीना और यशवर्धन के जन्म के बाद पता चला था। हीरो नं.1 के नाम से मशहूर गोविंदा की मानें तो उन्होंने काफी छोटी उम्र में शादी कर ली थी। लेकिन फिल्मों में आने के बाद उन्हें अपनी शादी की बाद छुपाकर रखनी पड़ी थी। क्योंकि यहां हर कोई उनका करियर बर्बाद करने पर लगा हुआ था। बुधवार 21 दिसंबर को अपना 59वां जन्मदिन मना चुके गोविंदा ने एक इंटरव्यू के दौरान यह खुलासा किया था, जो अब वायरल हो रहा है।

 

 

 

 

 

 

 

 

गोविंदा ने सुनीता आहूजा के साथ अपनी लव स्टोरी साझा करते हुए सिमी ग्रेवाल के शो पर कहा था कि वे काफी छोटी उम्र में अपनी पत्नी के साथ प्यार में पड़ गए थे।जब उनके पैरेंट्स को उनके अफेयर के बारे में पता चला तो उन्होंने उनकी शादी करा दी। उन्हें इसे सबसे छुपाकर रखना पड़ा था, क्योंकि उन्हें करियर को लेकर चिंता थी। बकौल गोविंदा, “मुझे हमेशा यह डर रहता था कि हर कोई मेरा करियर बर्बाद करना चाह्ह्ता था। इसलिए जब मुझसे कहा गया कि मुझे अपनी शादी की बात डिक्लेयर नहीं करनी चाहिए, तो मैंने नहीं की।

 

 

 

 

 

 

 

इसी इंटरव्यू में गोविंदा ने यह भी बताया था कि अपनी शादी की बात को छुपाना उनका अच्छा सही नहीं था, क्योंकि इसकी वजह से उनकी पत्नी की भावनाएं आहत हुई थीं। वे बमुश्किल ही साथ में कहीं बाहर जा पाते थे, क्योंकि डर रहता था कि कहीं कोई देख ना ले। हालांकि, जब उनकी शादी की बात सामने आई तो उनकी पॉपुलैरिटी पर कोई असर नहीं पड़ा था।

 

 

 

 

 

 

 

 

फिल्मों में डेब्यू के एक साल बाद ही 1987 में गोविंदा की शादी सुनीता से हो गई थी। उन्होंने यह शादी अपनी मां की इच्छा का मान रखने के लिए की थी। क्योंकि उस वक्त वे एक्ट्रेस नीलम के साथ प्यार में थे। और इसके चलते उन्होंने सुनीता के साथ अपनी सगाई तक तोड़ दी थी। हालांकि, गोविंदा के साथ 14 फिल्मों में नजर आईं नीलम के मन में ऐसा कुछ नहीं था।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

1990 में एक मैगजीन को दिए इंटरव्यू में गोविंदा ने बताया था कि वे सुनीता के सामने नीलम की ख़ूब तारीफ़ करते थे और चाहते थे कि वे भी नीलम जैसी बन जाएं। गोविंदा ने कहा था, मैं सुनीता से कहता था कि अपने आपको बदलो और नीलम की तरह बनो। कुछ सीखो उससे।” गोविंदा की बात सुनकर सुनीता चिढ जाती थीं और कहती थीं, “तुम मुझसे कारण ही प्यार में पड़े हो, कभी मुझे बदलने का प्रयास मत करना.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *